लोक कला रत्न पुरस्कार -२०२१

प्रतियोगिता एवं प्रवेश के जानकारी :

लोक कला रत्न पुरस्कार २०२१ – भारतीय लोक कलाकारों के लिए उत्तम पुरस्कार है |

अंतरराष्ट्रीय युवा कला प्रतियोगिता २०२१ की सफलता के बाद अंतरराष्ट्रीय भारतीय लोक कला संग्रालय (IIFAG) ने भारतीय लोक कलाकारों और उनकी प्रतिभाओं को पहचानकर प्रोत्साहन दे रहे हैं |

लोक कला रत्न पुरस्कार -२०२१

(IIFAG) लोक कला रत्न पुरस्कार २०२१, संसार के सर्वश्रेष्ठ भारतीय लोक कलाकारों को आवेदन के लिए आमंत्रित करता है |

IIFAG ऑस्ट्रेलिया द्वारा लोक कला रतन पुरस्कार २०२१, वार्षिक अंतरराष्ट्रीय लोक कला एवं ONLINE प्रदर्शनी प्रस्तुत की जा रही है | यह प्रतियोगिता विश्व के सभी नागरिकों को आमंत्रित करती है |

₹ २८०००० कुल पुरस्कार राशि (ACQUISITIVE PRIZE)

भारतीय कलाकार, पाँच में से किसी एक लोक कला वर्ग में भाग ले सकते हैं| इन लोक कला वर्गों को पाँच भारतीय क्षेत्रों के अनुसार बाँटा गया है | पाँच भारतीय लोक कला क्षेत्र जैसे : उत्तरीय, पूर्वीय, दक्षिणी, पश्चिमी एवं मध्यीय | कृपया निम्नलिखित भारतीय लोक कला के वर्गीकरण को देखें |

IIFAG, बच्चों, युवाओं, शौकिया और पेशेवर कलाकारों को आमंत्रित कर रहा है |

इन्हीं छह वर्गों में से हर वर्ग से एक कलाकार को विजेता चुना जाएगा | इसके अतिरिक्त प्रति वर्ग में से उच्चय क्षेणी के कलाकार को भारतीय लोक कला रत्न पुरस्कार २०२१ दिया जाएगा | सभी विजेताओं को नगद पुरस्कार, प्रमाण पत्र एवं निःशुल्क Online व्यक्तिगत संग्रालय दिया जाएगा |

भारतीय लोक कलाओं का वर्गीकरण :

  1. भारतीय लोक कला – दक्षिणीय क्षेत्र
  2. भारतीय लोक कला – उत्तरीय क्षेत्र
  3. भारतीय लोक कला – मध्यीय क्षेत्र
  4. भारतीय लोक कला – पूर्वीय क्षेत्र
  5. भारतीय लोक कला – पश्चिमीय क्षेत्र

कलाकारों का समुह वर्गीकरण :

  1. समूह A : बाल कलाकार समुह (१२ वर्ष एवं १२ वर्ष के नीचे)
  2. समूह B : युवा कलाकार समुह (१३ वर्ष – १८ वर्ष तक)
  3. समूह C : शौकिया कलाकार समुह
  4. समूह D : पेशेवार कलाकार समुह

लोक कला रत्न पुरूस्कार २०२१, अंतरराष्ट्रीय भारतीय लोक कला प्रतियोगिता पंजीकरण १५ अगस्त से ३० सितम्बर २०२१ तक खुला रहेगा | विजेता १४ नवम्बर २०२१ को घोषित किया जाएगा |

नगद पुरस्कार  (ACQUISITIVE PRIZE)

लोक कला रत्न पुरस्कार २०२१ हर क्षेत्रीय वर्ग में से एक कलाकार को विजेता घोषित किया जाएगा | उच्चतर मूल्यांकन, जजों और पब्लिक वोटिंग के आधार पर विजेता घोषित किया जाएगा |

  1. लोक कला रत्न पुरस्कार २०२१, समूह A(नगद पुरस्कार ₹ १०,०००)
  2. लोक कला रत्न पुरस्कार २०२१, समूह B(नगद पुरस्कार ₹ १५,०००)
  3. लोक कला रत्न पुरस्कार २०२१, समूह C(नगद पुरस्कार ₹ २५,०००)
  4. लोक कला रत्न पुरस्कार २०२१, समूह D(नगद पुरस्कार ₹ ३०,०००)

इसके अतिरिक्त निम्नलिखित वर्गों के आधार पर २४ विजयेताओं को नगद पुरस्कार दिया जाएगा |

समूह A

  1. भारतीय लोक कला दक्षिणीय शैली (नगद पुरस्कार ₹ ५०००)
  2. भारतीय लोक कला उत्तरीय शैली (नगद पुरस्कार ₹ ५०००)
  3. भारतीय लोक कला मध्यीय शैली (नगद पुरस्कार ₹ ५०००)
  4. भारतीय लोक कला पूर्वीय शैली (नगद पुरस्कार ₹ ५०००)
  5. भारतीय लोक कला पश्चिमीय शैली (नगद पुरस्कार ₹ ५०००)

समूह B

  1. भारतीय लोक कला दक्षिणीय शैली (नगद पुरस्कार ₹ ७५००)
  2. भारतीय लोक कला उत्तरीय शैली (नगद पुरस्कार ₹ ७५००)
  3. भारतीय लोक कला मध्यीय शैली (नगद पुरस्कार ₹ ७५००)
  4. भारतीय लोक कला पूर्वीय शैली (नगद पुरस्कार ₹ ७५००)
  5. भारतीय लोक कला पश्चिमीय शैली (नगद पुरस्कार ₹ ७५००)

समूह C

  1. भारतीय लोक कला दक्षिणीय शैली (नगद पुरस्कार ₹ १२५००)
  2. भारतीय लोक कला उत्तरीय शैली (नगद पुरस्कार ₹ १२५००)
  3. भारतीय लोक कला मध्यीय शैली (नगद पुरस्कार ₹ १२५००)
  4. भारतीय लोक कला पूर्वीय शैली (नगद पुरस्कार ₹ १२५००)
  5. भारतीय लोक कला पश्चिमीय शैली (नगद पुर स्कार ₹ ७५००)

समूह D

  1. भारतीय लोक कला दक्षिणीय शैली (नगद पुरस्कार ₹ १५०००)
  2. भारतीय लोक कला उत्तरीय शैली (नगद पुरस्कार ₹ १५०००)
  3. भारतीय लोक कला मध्यीय शैली (नगद पुरस्कार ₹ १५०००)
  4. भारतीय लोक कला पूर्वीय शैली (नगद पुरस्कार ₹ १५०००)
  5. भारतीय लोक कला पश्चिमीय शैली (नगद पुरस्कार ₹ १५०००)

हमें इस वर्ष आशा है की लोक कला रत्न पुरस्कार २०२१ के कारण बच्चों, युवाओं, शौकिया और पेशेवर कलाकारों की उच्चय स्तर की कलाकृतियों को देखने का आनंद प्राप्त होगा |

सभी प्रतियोगी कलाकारों को अभिनन्दन एवं शुभ कामनाएँ |

निष्ठा से

सैन्दिल वेल

संस्थापक – भारतीय अंतरराष्ट्रीय लोक कला संग्रालय

१. कलाकृति प्रस्तुतिकरण

१.जमा करनेवाली हर कलाकृति की क्रियाविधि पारम्परिक विषयों पर आधारित होनी चाहिए |

२.विजेता होने के लिए हर एक शैली में कम से कम १० कलाकारों की कलाकृतियाँ होना आवश्यक है |

३.सभी प्रवेशक, बच्चों के माता-पिता और अविभावकों को यह ज़िम्मेदारी लेनी होगी कि उनकी कलाकृति उनके द्वारा ही बनाई हुई है और किसी और की कॉपीराईट नहीं है | अगर कोई प्रवेशक इन नियमों का उलंघन करता है तो आयोजक (IIFAG) की ज़िम्मेदारी नहीं है |

४.जमा करने वाली कलाकृतियाँ पूर्ण होनी चाहिए |

५.सभी प्रवेश्कों को कलाकृति बनाते समय दो मिनट का लगातार विडियो (ड्राइंग और रंग प्रक्रिया) बनाकर भेजना अनिवार्य है | चुने गए फाइनलिस्ट को कलाकृति का पूरा विडियो भेजना अनिवार्य है | अगर आप विडियो नहीं भेजते हैं तो आयोजक (IIFAG) को आप को अयोग्य घोषित करने का अधिकार है |

६.प्रवेशक की कलाकृति १ अगस्त के बाद की होनी चाहिए पहले की नहीं |

  • दिया माप ए3 या ए2 या ए1

७.सभी कलाकृतियों पर सफाई से हस्ताक्षर और दिनांक होना चाहिए |

  •   अ) कलाकार का नाम
  •   आ) संपर्क विवरण
  •   इ) कलाकृति का आकार सेंटीमीटर में भेजना है
  •   ई) अनुमानत कलाकृति का वजन (ग्राम में – पैकिंग के साथ) होना चाहिए|

८. प्रवेशक की कलाकृति अपनी होनी चाहिए | वह कलाकृति उसके पास होनी चाहिए क्योंकि अगर वो पुरस्कृत होता है तो तभी वह अधिकारी होगा |

९. प्रवेशक ५ कलाकृतियाँ भेज सकता है किन्तु एक ही कलाकृति को पुरस्कार मिलेगा |

१०. एक बार जमा की हुई कलाकृति को बदल नहीं सकते | जमा करने के बाद अगर उस कलाकृति में कोई बदलाव देखा गया तो (IIFAG) आयोजक को पूरा अधिकार है कि उस कलाकृति को अयोग्य घोषित कर सकते हैं |

११. सभी कलाकृतियाँ (IIFAG) ऑस्ट्रेलिया या भारतीय पते पर १५ अक्टूबर,२०२१ के पहले जाँच के लिए पहुँच जानी चाहिए | १५ अक्टूबर,२०२१ के बाद में भेजने पर IIFAG को पूरा अधिकार है कि उस कलाकृति को अयोग्य घोषित कर सकते हैं |

१२. अंतिम चरण में चयन की गई कलाकृतियाँ, १ वर्ष (२०२१-२०२२) तक के लिए IIFAG के पास ही रहेंगी क्योंकि उनका उपयोग प्रदर्शनी में किया जाएगा| कलाकृति को IIFAG के पास भेजने और वापस लेने की ज़िम्मेदारी प्रवेशक की ही होगी |

१३. विजेता और फाइनलिस्ट को IIFAG को यह अधिकार देना होगा कि उनकी कलाकृति आवश्यकता अनुसार सार्वजनिक स्थानों पर उपयोग कर सकते हैं |

१४. अगर आपकी कलाकृति बिकती है तो उसका मूल्य आयोजक की कमीशन और टैक्स काट कर ही मिलेगा |

१५. प्रवेशक अपनी कलाकृति का मूल्य निर्धारित कर सकता है (टैक्स और IIFAG का १०% कमीशन सम्मिलित होना चाहिए |)

१६. प्रवेशक के माता-पिता / अविभावकों को (IndianFolkArt.Org) के निम्नलिखित नियम मानने पड़ेंगे |

२. चयन की विधि :

१. जजों का समूह, टेक्निकल स्कोर द्वारा फाइनल प्रवेशक का चयन करेंगे | इसके उपरान्त IndianFolkArt.Org ऑनलाइन पोर्टल द्वारा भी पब्लिक वोटिंग/स्कोरिंग की जाएगी |

२. जज समूह द्वारा चयन के मापदंड

  • कला की सुन्दरता
  • मौलिकता और विशिष्ठता
  • करने की विधि और निपुणता (पारम्परिक विधि का अधिकतर प्रयोग होना चाहिए |)
  • कलाकृति का पूर्ण लिखित विवरण
  • विषय का पूर्ण विवरण

३. सभी मूल्यांकन के बाद जज विजेता घोषित करेंगे |

४. चयन किए गए कलाकारों को email और IndianFolkArt.Org ऑनलाइन पोर्टल द्वारा सूचित किया जाएगा | जज समूह का निर्णय ही अंतिम निर्णय होगा |

५. चयन किए गए प्रवेश्कों को Loan सहमति पत्र को पूरा भर कर हस्ताक्षर करना अनिवार्य है जो कि फाइनल प्रदर्शनी के लिए आवश्यक है |

६. अपवादक कलाकृति और नियम अनुसार न होने पर, अयोग्य घोषित करने का जज को अधिकार है |

७. IIFAG के निमंत्रण के बाद चयन किया गया कलाकार अपनी कलाकृति की प्रस्तुति के लिए (अपने आप को या एक प्रतिनिधि) को नियुक्त कर सकता है |

३. चयन किए गए कलाकारों और फाइनलिस्ट की प्रदर्शनी :

१. कलाकरों को प्रदर्शनी के लिए अपनी कलाकृति स्वच्छता से प्रस्तुत करनी होगी|

२. कलाकार को अपनी कलाकृति की ओनरशिप निःशुल्क IIFAG को देनी होगी | यह कलाकृति IndianFolkArt.Org में प्रदर्शित की जाएगी | कलाकार को कॉपी राईट का अधिकार है |

३. प्रदर्शनी में कलाकृतियों को व्यवस्थित करने का अधिकार केवल IIFAG को ही है |

४. आपकी कलाकृति (प्रवेश पत्र के लोन पीरियड के अनुसार) को सुरक्षित रखने की ज़िम्मेदारी IIFAG की है |

५. अगर आपकी कलाकृति बिकती है तो लिखित मूल्य या उससे अधिक बेचने का अधिकार IIFAG को है |

कौन आवेदन का सकता है ?

  • लोक कला रत्न पुरस्कार २०२१ के लिए संसार के सभी कलाकारों (बच्चें, युवा, शौकिया और पेशेवर) के लिए खुला है |
  • वर्ग A और B के लिए, कलाकार की आयु १ अगस्त २०२१ के अनुसार गणना करनी होगी |
  • पेशेवर कलाकारों को उनका व्यवसाय प्रमाण या सरकारी आर्टिस्ट ID कार्ड देना होगा |
  • आवेदन के लिए नियमों का पालन करना अनिवार्य है |

महत्वपूर्ण दिनांक

  • कलाकृति जमा करना – १५ अगस्त,२०२१ (आरम्भ दिन)
  • कलाकृति जमा करना – ३० सितम्बर, २०२१ (अंतिम दिन)
  • योग्यता मूल्यांकन – ६ अक्टूबर, २०२१ (अंतिम दिन)
  • भौतिक कलाकृतियां जमा करना: १५ अक्टूबर २०२१ (अंतिम दिन)
  • जज द्वारा तकनीकी मूल्यांकन – २५ अक्टूबर, २०२१ (अंतिम दिन)
  • सार्वजनिक मतदान – १ नवम्बर, २०२१ (अंतिम दिन)
  • विजेता घोषणा – १४ नवम्बर,२०२१
  • सार्वजानिक प्रदर्शनी (LIVE) – १४ नवम्बर,२०२१

आवेदन शुल्क

  • अपरिशोधित रकम (नॉन रिफंडेबल) – ₹ ६०० प्रति कलाकृति| शुल्क भुगतान ऑनलाइन PayTM या Stripe (भारतीय प्रवेश्कों के लिए) और Credit/Debit Card (NRI) द्वारा किया जा सकता है |
  • अतिरिक्त कलाकृति के लिए ₹ २ ७५ प्रति कलाकृति, अधिकतम ५ कलाकृतियों की अनुमति है |

योग्यता की परिक्रिया

  • योगता का मूल्यांकन जज समूह और पब्लिक वोटिंग के द्वारा निर्धारित किया जाएगा | ऑनलाइन प्रदर्शनी के समय फाइनलिस्ट और विजेता का नाम घोषित किया जाएगा |

भारतीय लोक कला वर्ग

दक्षिणीय शैली

  • चेरियल स्क्रॉल कलाकृति
  • कलमकारी कलाकृति
  • केरला म्यूरल कलाकृति
  • तंजौर कलाकृति

पश्चिमी शैली

  • वरली कलाकृति
  • कच्छ लिप्पान कलाकृति
  • माता नी पचेडी कलाकृति
  • चित्रकथी कलाकृति

उत्तरीय शैली

  • पिचवई कलाकृति
  • मंदाना चित्रकला
  • मिनिएचर्स चित्रकला
  • कांगड़ा कलाकृति

मध्यीय शैली

  • गोंद कलाकृति
  • भिल कलाकृति
  • पिथोरा कलाकृति
  • सांझी कलाकृति

पूर्वीय शैली

  • कालीघाट कलाकृति
  • मधुबानी कलाकृति
  • पट्ट चित्रा कलाकृति
  • सोरया कलाकृति